Tuesday, April 14, 2020

क्या रामायण के इस प्रसंग में सच ही योगी आदित्यनाथ का ही वर्णन है ? :: A dutiful ruler "Yogi Aditya Nath"

1
मा० योगी आदित्यनाथ   

क्या रामायण के प्रसंग में सच ही योगी आदित्यनाथ का ही वर्णन है ? 

"एक संन्यासी से अच्छा राजा कौन हो सकता है?"

दोस्तों दूरदर्शन पर प्रसारित हो रहे कार्यक्रम रामायण का एक प्रसंग बड़ा ही प्रासंगिक है जिसमे भगवान राम कहते है कि " एक संन्यासी से अच्छा राजा कौन हो सकता है " 

सभी ने इस प्रसंग को उत्तरप्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ से जोड़ कर देखना शुरू कर दिया लेकिन सही मायने में यह जान लेना जरूरी है कि यह वास्तव में प्रासंगिक है या केवल एक कोरी कल्पना,


रामायण का वह वीडियो क्लिप (साभार - Ramanand Sagar Films Ltd.)

एक महान क्रांतिवीर रामप्रसाद बिस्मिल की शहादत के बाद उनकी अस्थियों की राख ने गोरखपुर की धरती को ओज पूर्ण बना दिया और उसी ओज पूर्ण धरती ने एक ऐसे धर्म परायण कर्त्तव्यनिष्ठ और धैर्यवान जनसेवक उत्तर प्रदेश को दिया जिसने राज काज का मानो स्वरुप ही बदल दिया। 
मुझे आज भी याद है वो 18 मार्च का वह दिन जब दोपहर उतरते समय यह खबर मिली कि 14 वर्षों के वनवास के बाद सत्ता में लौटी भाजपा ने एक भगवा वेश धारी सन्यासी गोरखपीठ के महंत योगी आदित्यनाथ को उत्तर प्रदेश के राजकाज का बागडोर सौपने का फैसला कर लिया है, यह तो साफ हो गया था कि वक़्त अपना स्वरूप बदलने को बाध्य हो गया है, एक दीक्षित संयासी पीठाधीश्वर स्वयं सिंघासन पर आरूढ़ होने जा रहा था, उस पर लोग भले भगवाकरण का आरोप लगाते हो लेकिन एक संयासी को सत्ता सौंपकर यह संदेश दे दिया गया कि राज तंत्र अब निस्वार्थ भाव से चलाने का संकल्प लिया जा चुका है यह सरकार पूर्व की सरकारों से अलग सरोकारों पर संवेदनशीलता , समाज के प्रति समर्पण, सेवा, सम्मान के साथ कार्य करेगी सही मायने में प्रदेश में "योगी युग" का आरंभ हो चुका था। 
समय बीतता चला गया, सरकार और इसके पैरोकारों का दावा है बीते सालों में उत्तरप्रदेश में काफी कुछ परिवर्तन हुआ है खास तौर पर पुलिस महकमे की हनक लौटी है तुष्टिकरण का दौर थमा है और बड़े बड़े पदों पर साफ छवि के लोग नियुक्त हुए बुंदेलखंड में सरकार संकल्प के साथ आगे बढ़ती नज़र आयी संकल्प पत्र के प्रति समर्पण का खयाल रखा गया ही हिंदुत्ववादी सरकार के संदेश के साथ मुसलमानों का भी भरोसा हासिल करने की कोशिश हुई। 

राज्ञि धर्मणि धर्मिष्ठाः पापे पापाः समे समाः।
राजानमनुवर्त्तन्ते   यथा  राजा   तथा प्रजाः।।

अर्थात - जगत मे पुण्य पाप का प्रवर्तक राजा ही होता है कारण कि जिस समय मे धर्मात्मा राजा प्रजाका अध्यक्ष होता है उस समय मे प्रजा भी धर्मनिष्ठ हो जाती है और पापिष्ठ राजाके समय मे प्रजा भी पापकारिणी हो जाती है।
राजा राज्य का प्रमुख अंग होता है उसके व्यवहार आचरण और क्रियाओं का प्रजा पर व्यापक प्रभाव होता है और अपने राजा के व्यवहार,मति और क्रियाओं अनुसार प्रजा का आचरण भी होने लगता है इस कारण राजा का प्रथम और प्रमुख कर्तव्य है स्वयं धर्म का निष्ठा के साथ पालन और सदाचार युक्त जीवन निर्वाह करते हुये प्रजा को भी धर्म और सदाचार उन्मुख करना। प्रजा को विद्या से सुसज्जित करना।
राजा के अन्य प्रमुख कर्तव्य हैं प्रजा की दुष्टों और आतातायीयों से रक्षा, न्यायोचित कर ग्रहण करना और कोष की वृद्धि करना, भेदभावरहित और बिना किसी पक्षपातपूर्ण न्याय करना,प्रजा के आजीविका के साधन उत्पन्न करना,निष्ठा,योग्यता और गुणों की परीक्षा कर आवश्यकता अनुसार मंत्रियों की नियुक्ति करना, कुशल और निष्ठावान राजदूत नियुक्त करना,राज्य के भीतर पंद्रह तीर्थों की और दूसरे राज्यों के अठारह तीर्थों के सभी सूचनायें प्राप्त करने के लिये गूढ पुरुषों की नियुक्ति करना,सैन्य बल की वृद्धि करना,राज्य की मंत्रणाओं को क्रियान्वित होने तक गुप्त रखना, प्रथक- प्रथक और सम्मिलित दोनों प्रकार से राज्य संबंधी विषयों पर मंत्रियों संग विचार विमर्श करना,दान देना और यज्ञ आदि करवाना।राज्य के भीतर आधारभूत विकास करना।
राज धर्म के अनुसार योगी आदित्यनाथ सरकार ने गवर्नेंस में पारदर्शिता और जवाब देही की ओर कदम बढ़ाया।
 सरकार कह रही है ई-आफिस ,ई -टेंडर , ई-लॉटरी को पहले से काफी गति मिली सरकार का दावा है कि गवर्नमेंट ई- मार्किट से सामानों की खरीद और राशन वितरण में ई- पास मशीनों जैसे संस्थागत सुधारों की ओर कदम बढ़ाए गए है। आयोजन उनकी दूरदर्शिता , समुचित व्यवस्था ,व्यवहार , आभार , आह्लाद, अनुशासन , स्वच्छता क्रांति एवं भाषा व्यवहार का उत्कृष्ट नमूना बनकर सबके सामने आया ,और जनता ने महसूस किया कि अब प्रजा सही हाथो में अनुशाशन परक व्यवहार के प्रतिबद्ध है

तुलसीदास जी कहते हैं :-
राजधर्म सरबसु एतनोई, जिमि मन माहं मनोरथ गोई।।

अर्थात राजधर्म का सार इतना ही है कि जैसे मन में सभी मनोरथ छिपे रहते हैं। कहने का अभिप्राय यह है कि वैसे ही राजधर्म में लोक कल्याण की सारी उत्कृष्ट योजनाएं और पवित्र भावनाएं छिपी रहनी चाहिए। तभी राजधर्म लोकतंत्र की और विश्वशांति की रीढ़ बन सकता है।
तुलसी कालीन विश्व में राजधर्म पथभ्रष्ट हो चुका था और वैश्विक स्तर पर लोगों में परस्पर की कटुता व्याप्त भी, जिससे सारा विश्व ही अनचाहे युद्धों से ग्रसित था। जिनसे बचने का सर्वोत्तम मार्ग यही था कि राजधर्म में लोक कल्याण अंतर्निहित होना चाहिए, और ऐसा देखने को तब मिला जब एक वैश्विक महामारी ने पूरे भारत ही नही वरन पूरे विश्व को अपनी चपेट में ले लिया, जहाँ पूरी दुनिया हताश और निराशा से भारत की ओर देख रही थी प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ एक पल भी समय गवाए अपनी प्रजा यानी जन जन को भय मुक्त करने का काम कर रहे थे भोजन की व्यवस्था से लेकर सोने ,रहने , स्वास्थ्य ,उपचार सभी का खास खयाल रखा जा रहा है अंत्योदय के संकल्प के लिए योगी  सदैव  संकल्प  बद्ध  है 
जनकल्याण के बारे में सोचना बात करना एवं जन कल्याण को सार्थक करना एक राजा के लिए संकल्पित राज धर्म ही है और यह कहना गलत न होगा कि योगी आदित्यनाथ जी ने अपना राज धर्म बखूबी निभा रहे है और आगे भी निभाते रहेंगे।
जिस प्रकार कोरोना वायरस आज दुनिया में कोहराम मचा के रखा है यहां तक भारत के लगभग 99% शहर कोरो ना की चपेट में है लेकिन प्रजा वत्सल योगी आदित्यनाथ जी ने अपनी प्रजा का ख्याल इतनी सफल तरीके से कर रहे हैं कि किसी को ज्यादा परेशानी ना हो वही कुछ लोग जिस प्रकार इस वायरस को भारत में महामारी की तरह एक बड़े स्तर पर फैलाने की साजिश कर रहे थे उस साजिश को योगी आदित्यनाथ जी ने निष्तोनाबूत कर दिया योगी जी की कार्यशैली और राज काज ठीक उसी प्रकार आज अग्रसर है, जिस प्रकार भगवान राम ने रामायण के किष्किंधा कांड में वर्णन किया है।











  नितीश श्रीवास्तव
कायस्थ की कलम से

तो मित्रों ये थी एक वीर स्वतंत्रता सेनानी राम प्रसाद बिस्मिल जी से सम्बंधित एक विशेष वर्णन जिसकी जानकारी, मैंने आपसे साझा की। येसे ही रोचक और महत्वपूर्ण जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट पर निरंतर आते रहे और अपने दोस्तों ,परिवार वालों और सभी प्रियजनों तक भी ये महत्वपूर्ण जानकारी पहुचायें। धन्यवाद। 

यदि आप कोई सुझाव या किसी भी प्रकार की कोई जानकारी देना चाहते है तो आप हमें मेल (contact@hindimehelppao.com) कर सकते है या Whatsapp (+919151529999) भी कर सकते हैं|
Author Image

About Hindi Me Help
दोस्तों यह ब्लॉग मैंने नई-नई जानकारी आपको हिंदी में देने के लिए बनाया है मुझे नई जानकारियां प्राप्त करना और आप लोगों के साथ साझा करना बहुत अच्छा लगता है।

1 comment:

close