Friday, May 1, 2020

लाल बहादुर शास्त्री जी की कार्यकुशलता क्यों भारतीयों से छुपाई गई :: A former prime minister Lal Bahadur Shastri

0
Hindi Me Help Pao

लाल बहादुर शास्त्री जी की कार्यकुशलता क्यों भारतीयों से छुपाई गई !


“शायद मेरे लंबाई में छोटे होने एवं नम्र होने के कारण लोगों को लगता है कि मैं बहुत दृढ नहीं हो पा रहा हूँ। यद्यपि शारीरिक रूप से में मैं मजबूत नहीं है लेकिन मुझे लगता है कि मैं आंतरिक रूप से इतना कमजोर भी नहीं हूँ - लाल बहादुर शास्त्री "

भारतीय संसद में कहे गए ये कथन किसी साधारण नेता के नही हो सकते, एक ऐसा व्यक्ति जिसने अपने जीवन मे ज़मीन से लेकर राजनीति के शीर्ष पद का रास्ता तय किया हो और जीवन के उतार चढ़ाव को महसूस किया हो तब जाकर उसे अपने अंदर की कमियों और अपने आंतरिक ताकत का एहसास होता है और वो सब सामने इस बात को स्वीकार करने का समर्थ रखता है कि आखिर उसकी किस कमी का लोग फायदा उठाते है और किस हिम्मत को नजरअंदाज करते है। 

यह कथन हमारे देश के उस राष्ट्रीय नेता का है जिन्होंने पूरा जीवन आभावों में काटा और इसके बावजूद उन्होंने देश के द्वितीय प्रधानमंत्री का पद सम्हाला। हम बात कर रहे माननीय प्रधानमंत्री स्वर्गीय लाल बहादुर श्रीवास्तव की जी लाल बहादुर श्रीवास्तव यही उनका पूरा नाम था परंतु 12 वर्ष की अवस्था मे जाती भेद से स्वयं को दूर करने के लिए अपने नाम से श्रीवास्तव शब्द हटा दिया और संस्कृत विषय मे शास्त्री की उपाधि धारण कर अपने नाम के आगे शास्त्री शब्द जोड़ा और बन गए लाल बहादुर शास्त्री।

शास्त्री जी हमारे देश के ऐसे व्यक्तियों में एक थे जिनका जीवन सभी के लिए आदर्श था। बचपन से लेकर देश  की आज़ादी तक और देश की आज़ादी से लेकर उनके मृत्यु तक उनका जीवन संघर्षो से घिरा रहा , उनके ऐसे विभिन्न कार्य जो उनकी आदर्श छवि किसी के लिए भी प्रेरणा स्रोत हो सकती थी। सत्ता के लालचियों ने पूरे देश को उससे वंचित रखा जो ख्याति उन्हें मिलनी चाहिए थी उन्हें नही मिली।  

बात तब की है जब आज़ाद भारत मे शास्त्री जी रेल मंत्री के पद पर आरूढ़ थे एक साधारण परिवार में जन्मे किसी भी व्यक्ति का विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश मे मंत्री बन जाना साधारण बात न थी , लेकिन शास्त्री जी को इस बात का जरा भी घमंड नही था। वो उसी तरह साधारण ही थे यह कोई मामूली बात न थी जीवन का कठिन दौर किसी भी व्यक्ति को सौम्य बना देता है क्यों कि उसे एहसास होता है कि हर उस आभाव का जो वह दूसरों को नही देना चाहता एक बात का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते है कि शास्त्री जी ने अपने रेलमंत्री के कार्यकाल के दौरान अपनी मां को कभी नहीं बताया कि वे रेल मंत्री हैं, बल्कि उन्होंने बताया कि वे रेलवे में नौकरी करते हैं ।

इसी दौरान मुगलसराय में एक रेलवे का कार्यक्रम आयोजित हुआ जिसमें शास्त्री जी को ढूंढते-ढूंढते उनकी मां पहुंच गईं । उन्होंने (मां) वहां मौजूद लोगों से पूछा कि वहां मेरा बेटा भी आया है, वो भी रेलवे में है ! लोगों ने जब पूछा क्या नाम है आपके बेटे का, तो उन्होंने जब नाम बताया तो सब चौंक गए और बोले, ”ये झूठ बोल रही है।” पर शास्त्री जी की मां बोलीं, ”नहीं वो आए हैं।” लोगो ने उन्हें लाल बहादुर शास्त्री के सामने ले जाकर पूछा, ”क्या वही हैं ?” तो माँ बोलीं, ”हां, वो मेरा बेटा है।” लोग, मंत्री जी से दिखा कर बोले, ”वो आपकी माँ है।” तो उन्होंने अपनी माँ को बुला कर पास बैठाया और कुछ देर बाद घर भेज दिया। इसके बाद वहां मौजूद पत्रकारों ने जब शास्त्री जी से पूछा, ”आप ने, उनके सामने भाषण क्यों नहीं दिया।

तब शास्त्री जी ने जो जवाब दिए उसे सुनकर वहां सभी चौंक उठे और सन्न रहे गए । शास्त्री जी ने कहा, ”मेरी माँ को नहीं पता कि मैं मंत्री हूँ। अगर उन्हें पता चल जाय तो लोगों की सिफारिश करने लगेगी और मैं मना भी नहीं कर पाउंगा और उन्हें अहंकार भी हो जाएगा।” 

जिस व्यक्ति के ऐसे विचार हो वो साधारण तो बिल्कुल नही हो सकता ,और ऐसा बनना किसी के जीवन मे बहुत कठिन है। शास्त्री जी की संगठन शक्ति और इच्छा शक्ति के सभी कायल थे हर ओर उनकी प्रसंशा हो रही थी ,लेकिन एक साधारण परिवार का कोई व्यक्ति जब तरक्की के सिंघासन पर आरूढ़ हो रहा हो तो यह उन लोगो को कैसे गवांरा हो जिनकी राजनीति ही पारिवारिक पूंजी हो लोग पसंद नही करते जलते है कार्य मे बाधा डालते ही किस प्रकार तोड़ा जा सके उसके मनोबल की हत्या की जा सके उसका प्रयास करते है, और शास्त्री जी के साथ भी यही हुआ लेकिन प्रतिभाएं किसी की मोहताज नही होती बस एक अवसर की दरकार होती है। 

शास्त्री जी के साथ घटी एक घटना भी इसी का उदाहरण रही उनके रेल मंत्री रहते एक ट्रेन दुर्घटना घटी जिसमे लगभग 114 से ज्यादा जाने गयी जिसका शास्त्री को गहरा आघात लगा और उन्होंने इस दुर्घटना की जिम्मेदारी स्वयं लेते हुए इस्तीफा दे दिया संसद में उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया गया यह कहते हुए की इस घटना की जिम्मेदारी शास्त्री जी की नही है फिर भी एक नज़ीर पेश करते हुए उनका यह इस्तीफा मंजूर किया जा रहा है तभी उन्होंने यह व्यक्तव्य संसद में दिया “शायद मेरे लंबाई में छोटे होने एवं नम्र होने के कारण लोगों को लगता है कि मैं बहुत दृढ नहीं हो पा रहा हूँ। यद्यपि शारीरिक रूप से में मैं मजबूत नहीं है लेकिन मुझे लगता है कि मैं आंतरिक रूप से इतना कमजोर भी नहीं हूँ"

एक दुर्घटना का जिम्मेदार स्वयं को ठहराते हुए शास्त्री जी ने इस्तीफा दे दिया , जरा सोचिए अगर आज का वक़्त होता तो ऐसा नही होता आज के परिदृश्य को देखते या तो लोग घटना को भूल जाते या फिर दुनिया को दिखाने के लिए उस घटना की सबसे छोटी इकाई को कसूरवार ठहराकर अपना पल्ला झाड़ लेते , लेकिन शास्त्री जी ने ऐसा नही किया ,इस प्रकार की इच्छा शक्ति फिर ऐसे व्यक्ति में हो सकती है जिसने जीवन मे दुख के विभिन्न थपेड़ो को झेला हो , यही कारण था कि शास्त्री जी को सभी व्यक्तियों से अलग करता था ,लेकिन शास्त्री जी का जीवन इतना आसान नही था जितना सबका हो सकता है। 

भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के निधन के बाद पार्टी को चिंता हुई कि अब देश कौन चलायेगा अगला मुखिया कौन होगा प्रधानमंत्री का पद कौन सम्हालेगा, इसकी जिम्मेदारी उस वक़्त के कांग्रेस अध्यक्ष के कामरान पर आ गयी , आपसी आपाधापी के बाद लाल बहादुर शास्त्री का नाम मुखरित हुआ ,लेकिन न तो वो नेहरू परिवार के थे और नही किसी बड़े परिवार से ताल्लुक रखते थे तो उनका विरोध होना लाजमी था ,एक साधारण परिवार में जन्मा कैसे इतने बड़े पद पर बैठ सकता है सबके मन मे इस बात की खलबली थी शायद कांग्रेस अध्यक्ष जिनको यह जिम्मेदारी दी गयी थी प्रधान नेता चुनने की वो भी शायद ये जानते थे कि यदि साधारण परिवार का कमजोर व्यक्ति यदि पद पर रहेगा तो पार्टी का उस पर दबाव रहेगा शायद इसी मंशा के साथ जबकि मोरारजी देसाई पंडित नेहरू के बाद एक प्रबल दावेदार थे उनको पीछे कर लालबहादुर शास्त्री को भारत का भावी प्रधानमंत्री बनाया गया , शास्त्री जी के प्रधानमंत्री बनते उन्हें मानसिक विरोध का सामना करना पड़ा एक पंडित जवाहल लाल नेहरू जिनका शायद कोई विरोध करता हो और उनके बाद लालबहादुर शास्त्री , लोग उन्हें बहुत निम्न दर्जे का समझ रहे थे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों ने उनसे ऐसे सवाल किए जैसे वो किसी प्रधानमंत्री से नही किसी क्लर्क से बात कर रहे हो ।शास्त्री जी को बहुत आघात लगा और उन्होंने फिर कभी औपचारिक प्रेस वार्ता नही रखी। इसी प्रकार तीन मूर्ति भवन जोकि प्रधानमंत्री का आवास था उसे नेहरू मेमोरियल बनाया जाए या नही उस पर भी वे उपेक्षा का शिकार हुए , और ये शायद इसी वजह से था कि वो एक साधारण परिवार से थे , जो लोगो को गवारा नही था ।उनकी तुलना नेहरू से की जाती थी जो मिनटों में फैसले लेते थे ऐसा कहा जाता था ,और वो अपने आवास का ही फैसला नही ले पा रहे थे लेकिन उनकी कार्य कुशलता ने सभी का मन जीत लिया एक एक कर समस्याओ को सुलझाते और समन्वव से उन्होंने अनेको कार्य किया दुग्ध क्रांति भी उन्हीं की ही देन थी जहाँ एक तरफ उन्हें कमजोर नेता कहा जा रहा था वही शास्त्री जी जब से प्रधानमंत्री बने एक एक कर समस्या आती ही जा रही थी ऐसा लग रहा था मानो देश परिवर्तन की ओर बढ़ रहा हो और सारी दुःस्वरिया स्वतः ठीक होने के लिए उनके सामने आती जा रही थी समस्याएं भी जान चुकी थी कि यही एक व्यक्ति है जो अपने समर्थ से सब कुछ सुलझा लेगा। 

चीन से युद्ध के अभी 3 साल ही बीते थे कि पाकिस्तान ने इसका फायदा उठाया वहां के राष्ट्रपति अयूब खान जोकि कद से लंबे और शरीर से बलिष्ट थे ,उन्होंने सोचा कि यही सही मौका है भारत से कश्मीर को छिनने का क्यों कि भारतीय सेना अभी चीन से युद्ध के दर्द से उभरी नही है और उसने अपनी घुसपैठ जारी कर दी। एक सितंबर, 1965 को पाकिस्तान ने अखनूर सैक्टर पर कब्जा करने के लिए ‘ऑपरेशन ग्रैंड स्लैम’ शुरू करते हुए कश्मीर के छंब सैक्टर पर हमला कर दिया। वहीं, चीनी सेना पूर्वी सैक्टर पर हमले की धमकी दे रही थी. लेकिन चीन की धमकी को भी शास्त्री जी पर कोई असर नहीं हुआ और उन्होंने उसकी बोलती बंद कर दी. उन्होंने कहा कि अगर चीन इस युद्ध में कूदा, तो भारत अपनी आखिरी सांस तक संघर्ष करेगा. इससे डर कर चीन पीछे हट गया। ये हमला वही सुबह साढ़े 3 बजे किया गया। भारत इस हमले के लिए तैयार नहीं था, नतीजतन, सुबह के नौ बजे तक उसने छंब सैक्टर पर कब्जा कर लिया। 

इससे एक दिन पहले ही थल सेनाध्यक्ष जनरल जयन्तो नाथ चौधरी ने कश्मीर का दौरा किया था। छंब पर कब्जे के बाद पाकिस्तानी सेनाध्यक्ष जनरल मुहम्मद मूसा खान वहां दौरे पर निकल पड़ा. उधर, हमले की खबर मिलते ही भारतीय वायुसेना और थल सेना जवाबी हमले की रणनीति तैयार करने में लग गई। 

4 सितंबर की शाम को आकाशवाणी पर एक बुलेटिन आया, जिसमें कहा गया कि प्रधानमंत्री शास्त्री जी ने लोकसभा को बताया है कि पाकिस्तानी सेना सियालकोट सेक्टर से जम्मू की ओर बढ़ रही है। हालांकि जनरल मूसा को पता था कि ऐसा नहीं है, ये बात सरासर गलत थी। तब उसको महसूस हुआ कि भारत कुछ बड़ा करने की योजना बना रहा है। 

लाहौर की ओर बढ़ी भारतीय फौज
उधर, बेस्टर्न कमांड के जीओसी लेफ्टिनेंट जनरल हरबख्श सिंह ने सेनाध्यक्ष चौधरी से अतंरराष्ट्रीय सीमा पार कर लाहौर की तरफ बढ़ने की अनुमति मांगी। उन्हें इसके सिवाय कुछ और मंजूर नहीं था, वह चाहते थे कि लाहौर भारत की सेना के कब्जे में हो जाए। लिहाजा, जनरल चौधरी को उनकी बात माननी पड़ी और उन्हें 3 सितंबर को पंजाब से लाहौर की ओर बढ़ने की इजाजत दी गई। भारत का सैन्य ऑपरेशन 7 सितंबर की सुबह शुरू होना था, लेकिन 6 सितंबर को ही भारत ने पाकिस्तानी सीमा में प्रवेश कर लिया। 

इधर, पाकिस्तानी सेना ये ही समझती रही कि भारतीय फौज अखनूर सेक्टर की ओर से उनकी तरफ बढ़ रही है. लेकिन जैसे ही भारत ने लाहौर की ओर बढ़त बनाई, उनके पांव के नीचे से जमीन खिसक गई। इसके कुछ ही घंटों में पाकिस्तान का डोगराई, भसीन, दोगाइच और वाहग्रियान भारतीय सेना के कब्जे में थे। इस समय तक पाकिस्तन के राष्ट्रपति फील्ड मार्शल अयूब खान को इस हमले की सूचना तक नहीं थी. वहीं आईएसआई का प्रमुख ब्रिगेडियर रियाज हुसैन भी इस बात से बेखबर था। बहरहाल, जल्द ही उन्हें भी ये खबर मिल गई। 

इस समय, पाकिस्तान के पास बड़ी मात्रा में एम48 पैटन और एम24 चाफी जैसे शक्तिशाली अमेरिकी टैंक थे. जो संख्या में भारतीय टैंकों के मुकाबले लगभग 40 ज्यादा थे। भारतीय सेना के जांबाज सिपाहियों के आगे अमेरिकी टैंक कुछ भी कमाल न दिखा सके।  भारतीय सेना ने तरनतारन में ही पाकिस्तानी फौज को घेर लिया और उसके टैंकों को तबाह कर दिया. पाकिस्तान के अत्याधुनिक पैटन टैंक भारत के पुराने टैंकों का सामना न कर सके. वहीं, बहादुर सैनिक वीर अब्दुल हमीद ने पाकिस्तान के 3 टैंकों को तो अपने हाथों से ध्वस्त कर दिया. इस तरह से पाकिस्तानी अपने टैंक वहीं छोड़ कर भाग निकले.

इस युद्ध में पाकिस्तान के लगभग 300 टैंक बर्बाद हो गए, वहीं भारतीय लड़ाकू जहाजों ने पेशावर हवाई अड्डे पर भी धावा बोल दिया। इस बात ने पाकिस्तान की बेचैनी बढ़ा दी, और पाकिस्तान के राष्ट्रपति लाहौर को भारतीय सेना के कब्जे से बचाने के लिए अमेरिका के सामने गिड़गिड़ाने लगे। ऐसे में भारत को रोकने के लिए अमेरिका के पास केवल एक ही हथियार बचा था कि वह भारत को हो रहे खाद्यान्न का निर्यात रोक दे, लिहाजा, अमेरिका ने अपनी चाल चली और भारतीय प्रधानमंत्री से अपनी सेना पाकिस्तान से वापस बुलाने को कहा। अमेरिका ने धमकी दी कि अगर युद्ध नहीं रुका तो गेहूं का आयात नहीं होगा। 

...और नहीं डरे प्रधानमंत्री शास्त्री 
इस धमकी को लाल बहादुर शास्त्री ने नजरअंदाज कर दिया और भारतीय फौज को पूरी ताकत से पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने का आदेश जारी किया। 

बेहद सादगी भरा जीवन जीने वाले लाल बहादुर शास्त्री जी पूरे देश को अपना परिवार समझते थे, और जब बात अमेरिकी धमकी से लड़ने की आई, तो उन्होंने इसकी शुरूआत सबसे पहले अपने छोटे परिवार से ही की उन्होंने एक रात परिवार के सभी सदस्यों को बुलाकर कहा कि अगले एक हफ्ते तक शाम का खाना नहीं बनेगा। बच्चों को तो दूध-फल दे दिया जाएगा, लेकिन सभी बड़े सदस्य उपवास रखेंगे। सो, घर के सभी सदस्यों ने शास्त्री जी की बात का सशर्त पालन किया। अब वो इस बात से वाकिफ हो चुके थे, कि जब उनका छोटा परिवार एक वक्त का खाना छोड़ सकता है, तो उनका बड़ा परिवार यानी भारत भी ऐसा कर सकता है।  इसके बाद उन्होंने दिल्ली के रामलीला मैदान से भारत के आम लोगों को अपने संदेश में एक दिन का अपवास रखने को कहा, उन्होंने देशवासियों से फालतू के खर्चों को बंद करने का भी कहा, ताकि सेना के लिए आवश्यक धन जुटाया जा सके ,प्रधानमंत्री शास्त्री जी का साफ कहना था कि अगर ऐसा होगा, तो अवश्य ही अमेरिकी धमकी को परे रख भारत पाकिस्तान को सबक सिखा सकता है। 

इससे उनकी दूर दृष्टि का भी आकलन
बहरहाल, अमेरिकी शर्तों से निपटने के लिए शास्त्री जी की इस बात को मानकर पूरे देश ने उनका सम्मान किया.
आखिरकार, 22 दिन तक चले भीषण युद्ध के बाद पाकिस्तान को खदेड़ दिया गया। अक्टूबर, 1965 को लाल बहादुर शास्त्री ने रेडियो पर देश को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि "मैं खाद्यान्न मामले में आत्मनिर्भरता को अपने देश के लिए अभेद्य सुरक्षा मानता हूं, यह हमारी आजादी और स्वतंत्रता के लिए नितांत आवश्यक है कि हम अपनी जमीन के हर एक छोटे टुकड़े पर भी खेती करें। इसके बाद भारत में कृषि आत्मनिर्भरता का जो अभियान शुरू हुआ, उसने अमेरिका के घमंड को तोड़ दिया था। भारत पाकिस्तान से ये युद्ध जीत चुका था, वहीं अमेरिका की भी इसमें नैतिक हार हुई। 
एक साधारण परिवार के लालबहादुर शास्त्री जी का यह कदम ऐतिहासिक कदम था ,देश आज़ादी से लेकर अबतक किसी भी प्रधानमंत्री में इतना साहस नही हुआ कि पाकिस्तान को इस तरह जवाब दे सके , लाहौर से 12 किलो मीटर से सेना को को बुलाना ये उनकी दरिया दिल का उदाहरण था वो दुनिया को बताना चाह रहे थे कि की लाहौर पे कब्जा तो मिनट का खेल था फिर भी बड़ा दिल दिखाते उन्होंने ऐसा नही किया , छोटे से कद काठी के लालबहादुर शास्त्री ने जो कर दिखाया वो बड़े से बड़े लोग करने में हिचकिचाते थे जहाँ कहा जा रहा था कि की शास्त्री जी फैसला नही ले पाते है वही उनके एक फैसले ने दुनिया को दिखा दिया कि भारत किसी से कम नही , देश का कुशल नेतृत्व कर उन्होंने देश को यह भी बताया कि देश के लिए सबसे जरूरी क्या है एक किसान जो फसल उगता है देश का अन्नदाता है और दूसरा जवान जो देश की रक्षा करता है दोनों ही की जय कार होनी चाहिए क्यों कि पूरा देश इन पर ही निर्भर है और उन्होंने नारा दिया - 

 "जय जवान और जय किसान" का 

पाकिस्तान से युद्ध के बाद ताशकंद समझौते के लिए शास्त्री जी ताशकंद गए लेकिन ताशकंद में क्या हुआ कैसे हुआ एक रहस्य ही रहा शास्त्री जी ताशकंद जाकर फिर कभी वापस नही लौटे लौटा तो उनका पार्थिव शरीर सत्ता के लोभियों ने कभी इस रहस्य को उजागर ही नही होने दिया उन्हें पता था कि अगर शास्त्री जी का यह 18 महीने का कार्यकाल और उनकी उपलब्द्धियाँ सामने आ गयी तो शास्त्री जी को सत्ता से हटा पाना मुश्किल होगा शायद यही डर रहा होगा उनके विरोधियों में लेकिन सत्य कहा छुपता है थोड़ा ही सही सामने आया शास्त्री जी को चाहने वाले भी कम न थे उनकी मृत्यु का रहस्य जानना चाहते थे सारा देश जानना चाहता था कि उनके प्रिय प्रधानमंत्री के साथ क्या हुआ था। अगर हम तथ्यों पर ध्यान दे तो उस दिन शास्त्री जी ने अपने परिवार से बात की थी और सुबह ही उनके मरने की खबर मिली ,उनका पार्थिव शरीर भारत लाया लाया गया , ,उनका पार्थिव शरीर नीला पड़ गया था जैसे किसी के विष पीने की वजह से होता है ,उनका पोस्टमार्टम नही किया गया शायद डर होगा कि रहस्य बाहर आ जायेगा न जाने कितने रहस्यों के साथ शास्त्री जी इस देश से विदा हो गये तत्कालीन सरकारों ने नही चाहा की उनके रहस्य से देश को अवगत कराया जाए मतलब साफ था कोई तो था जो नही चाहता था कि एक साधारण परिवार का वह व्यक्ति देश की सत्ता पर आरूढ़ हो और उसको लोग जाने यह किसी से छिपा नही की लालबहादुर शास्त्री के बारे में हम सब दो ही बातें ज्यादा जानते है एक कि वो दूसरे प्रधानमंत्री थे और दूसरा उन्होंने जय जवान जय किसान का नारा दिया , इसके अलावा उस यहां व्यक्ति के परुषार्थ को और उसकी विद्वता को दबाया गया और छिपाया गया ताकि नई पीढ़ी उन्हें गुमनामी में ही उन्हें भुला दे लेकिन आज यह बात जाननी होगी कि ऐसे महान व्यक्तिव के साथ ऐसा क्यों हुआ किसी को उनके बारे में क्यों नही जानने दिया गया इतिहास क्यों छिपाया गया , किसे शास्त्री की के निधन से फायदा और उनकी प्रसिद्धि से नुकसान था यह हमेशा से रहस्य ही है लेकिन अगर अब भी ये रहस्य ही रहे तो धिक्कार है  मानवता पर भारतवासी पर हमें अब आवाज़ उठानी चाहिए। 

इतने छोटे से कार्यकाल के बावजूद उनके सराहनीय कार्य और उनकी कुशलता के लिए जितनी उन्हें ख्याति मिलनी चाहिए थी नही मिली उन्हें जितना सम्मान मिलना चाहिए था नही मिला ,क्योंकि शायद कोई था जो नही चाहता था कि इतिहास के पन्नो में उनका नाम एक कुशल प्रधान सेवक के रूप में हो , हम सब को सोचना होगा कि इतिहास से छेड़खानी आखिर क्यों की गई क्यों हमसे हर उस रहस्य को छिपाया गया जिससे शायद इतिहास बदल जाता । सत्ता का लालच हमेशा अच्छे लोगो के बलिदान पर ही संभव हुआ है ऐसे न जाने कितने ही नाम है जो एक रहस्य बन गए सिर्फ और सिर्फ उनके नाम ही याद रह गए उनकी उपलब्द्धियाँ यतो मिटा दी गयी या छिपा दी गयी ,क्यों कि विरोधियों की कांति उनके आगे फीकी थी और यह भी नितांत सत्य ही कि अगर आज वो होते तो ये ना होते और इतिहास कुछ और होता वर्तमान की दिशा ही शायद कुछ और होती।

नितीश श्रीवास्तव
कायस्थ की कलम से
तो मित्रों ये थी हमारे महान भारत के दुसरे प्रधानमंत्री जी से  जुडी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी, जिसे मैंने आपसे साझा की। ऐसे ही रोचक और महत्वपूर्ण जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट पर निरंतर आते रहे और अपने दोस्तों ,परिवार वालों और सभी प्रियजनों तक भी ये महत्वपूर्ण जानकारी पहुचायें। धन्यवाद।

यदि आप कोई सुझाव या किसी भी प्रकार की कोई जानकारी देना चाहते है तो आप हमें मेल (contact@hindimehelppao.com) कर सकते है या Whats-app (+919151529999) भी कर सकते हैं|
Author Image

About Hindi Me Help
दोस्तों यह ब्लॉग मैंने नई-नई जानकारी आपको हिंदी में देने के लिए बनाया है मुझे नई जानकारियां प्राप्त करना और आप लोगों के साथ साझा करना बहुत अच्छा लगता है।

No comments:

Post a Comment

close