Tuesday, June 2, 2020

बहुत अंतर होता है हिंदू और फर्जी भीमटो में ! :: There is a lot of difference between Hindu and fake Bhimta

0
Hindi Me Help Pao


बहुत अंतर होता है हिंदू और फर्जी भीमटो में !

हिन्दुओ को पाखंडी और अंधविश्वासी कहना तो फैशन हो गया और इसका कारण यह भी है कि हिन्दू प्रतिक्रिया नही देते शायद इस लिए क्यों कि वो जानते है भैंस के आगे बीन बजावे भैंस खड़ी पघुराय , लेकिन मुझे लगता है अब आईना दिखाने का वक़्त आ गया है तुम कहा खड़े हो खास कर हिन्दुओ का एक वर्ग जो अपने को बहुत बुद्धि जीवी और संज्ञानी समझता है हिन्दुओ को पाखंडी कहता है असल मे पाखंडी वो खुद है आज मैं एक एक परत उखाडू गा पाखंड की सबसे पहले ये समझना होगा कि ये जो बुद्धि जीवी को अपने को बहुत तार्किक और बुद्धि के पुरोधा समझते है उनका आधार क्या है सिर्फ इतना कि इन्होंने खुद को हिन्दू से अलग होकर बौद्ध धारण किया और बस अधिकार मिल गया बुद्धि का और हिन्दुओ को गाली देने का अब जरूरी है कि इन्हें आईना दिखाया जाए कि आखिर ये है क्या 

भगवान बद्व की आड़ में दोगलापन क्यों 
भीमटा समुदाय पाखंड का ही दूसरा नाम है।। इस समुदाय की विशेषता ये है कि ये एक इस्तेमाल होने वाला समुदाय है। महाभारत युद्ध,रामायण इत्यादि को काल्पनिक बताते है मगर एकलव्य की घटना को सच मानते है। ब्राह्मण शब्द का अर्थ तक नही जानते मगर बुद्ध ने तीन महीने बिना खाये पिये तप किया इसको सत्य मानते है। ये भी नही जानते कि बुद्ध को प्रारंभिक ज्ञान ब्राह्मणो से मिला था। अम्बेडकर का असली सरनेम नही जानते मगर बात बात पर अम्बेडकर की दुहाई देते है। संविधान की किताब कभी खोलकर नही देखी और भीमराव अम्बेडकर को संविधान निर्माता की दुहाई देकर संविधान की बात खुद नही मानते। 

देवी देवताओं को भगवान नही मानते लेकिन बुद्ध को भगवान मान कर पूजते है
क्षत्रियों से नफरत करते है मगर दूसरी तरफ क्षत्रिय राजा महाराज शुद्बोधन के पुत्र भगवान बुद्ध की ही पूजा करते है। पैसे के लालच में कभी हिन्दू से बौद्ध,बौद्ध से ईसाई,ईसाई से मुसलमान बनते है…इतने भूंखे है पैसों के... अपनी जमात में ऊंच नीच फैलाते है कि हम ऊंचे चर्मकार तुम नीचे चर्मकार, चर्मकार पासी से शादी नही करता,पासी भंगी से,भंगी महार से…सब एक दूसरे को नीच मानते है…खुद का घर नही सुधार पाए मगर आरोप ब्राह्मण पर लगाते है। संत रविदास का फोटो लगाते है लेकिन राम कृष्ण को गाली देते है जबकि रविदास मीराबाई के गुरु तथा कृष्ण भक्त थे। सम्भाजी से खुद को जोड़ते है और माँ दुर्गा को वैश्या कहते है जबकि सम्भाजी शिवाजी के पुत्र और तुलजा भवानी के उपासक थे।

मुस्लिम को अपना डीएनए वाला बताते है जबकि म्यांमार, जापान, चीन,श्रीलंका के बौद्ध मुस्लिम से नफरत करते है….
कुल मिलाकर एक लाइन में भीमटे नकली बौद्ध है….इनके पाखंड की रोज पोल खुलती है…सावधान रहिये
लेकिन यह तक रुकने की आवश्यकता नही है आगे भी है नये नये नकली बोद्ध बने इन भीमटो की दोग्लापंती देखिये, ये इतने confuse है कि इन्हे खुद नहीं पता की ये किनकी तरफ है ??

एक तरफ ये भगवा को गाली देते है दुसरी तरफ बोद्ध भी भगवाधारी ही होते है। 
एक तरफ ये अपने आप को बोद्ध कहते है और दुसरी तरफ जाति प्रमाण पत्र बनवाते हैं। 
एक तरफ ये ब्राह्मण को गाली देते है दुसरी तरफ ब्राहमणों के सरनेम अंबेडकर को अपना मानते हैं, एक ब्राह्मण ने ही अपना सरनेम देकर भीमराव शकपाल को भीमराव अंबेडकर बनाया था। 

एक तरफ ये मनुस्मृति को गाली देते है दुसरी तरफ बोद्ध धर्म के पंचशील नियमों का पालन करने को कहते हैं जो मनुस्मृति से ही लिये गये हैं। एक तरफ राजपूतों को ये गाली देते है दुसरी तरफ क्षत्रिय गौतम बुद्ध को अपना भगवान कहते हैं
एक तरफ तो अम्बेडकर की लिखी हुई किताब "भारत और पाकिस्तान का विभाजन" के अनुसार अम्बेडकर सभी मुसलमानो को पाकिस्तान भेजना चाहते थे, दुसरी तरफ ये जय भीम और जय मीम का गठबंधन बनाते हैं
अब आप ही बताये की ये लोग आखिर किसकी तरफ है !

सच्चाई ये है कि ये किसी की तरफ नही है जो आने धर्म का न हुआ वो दूसरे का क्या होगा बात सीधी सी है वो भी एक लाइन में 
सयाना कौआ ही गू खाता है

नितीश श्रीवास्तव
कायस्थ की कलम से

तो मित्रों ये थी हमारे हिंदू धर्म से जुडी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी, जिसे मैंने आपसे साझा की। ऐसे ही रोचक और महत्वपूर्ण जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट पर निरंतर आते रहे और अपने दोस्तों ,परिवार वालों और सभी प्रियजनों तक भी ये महत्वपूर्ण जानकारी पहुचायें। धन्यवाद।

यदि आप कोई सुझाव या किसी भी प्रकार की कोई जानकारी देना चाहते है तो आप हमें मेल (contact@hindimehelppao.com) कर सकते है। 
Author Image

About Hindi Me Help
दोस्तों यह ब्लॉग मैंने नई-नई जानकारी आपको हिंदी में देने के लिए बनाया है मुझे नई जानकारियां प्राप्त करना और आप लोगों के साथ साझा करना बहुत अच्छा लगता है।

No comments:

Post a Comment

close